WhatsApp Channel Join Now
Telegram Channel Join Now

ITEP Course Replacing B.ED: बीएड की जगह शुरू हुआ आईटीईपी नया कोर्स, अब टीचर बनने के लिए आईटीईपी कोर्स जरूरी

ITEP Course Replacing B.ED: नेशनल काउंसिल फॉर टीचर एजुकेशन एनसीटीई ने अब शिक्षक बनने के लिए 4 वर्ष इंटीग्रेटेड बीएससी बीएड और बीए बीएड बंद करने का फैसला ले लिया है।

सन 2025-26 से इन कोर्स में प्रवेश नहीं होंगे हालांकि एनसीटीई की ओर से शैक्षणिक सत्र 2024-25 तक एडमिशन लेने वाले विद्यार्थियों की पढ़ाई जारी रहेगी एनसीटीई ने बीएड की बजाय इंटीग्रेटेड टीचर एजुकेशन प्रोग्राम आईटीपीई को शुरू किया है।

ITEP Course Replace B.ED
ITEP Course Replacing B.ED: बीएड की जगह शुरू हुआ आईटीईपी नया कोर्स, अब टीचर बनने के लिए आईटीईपी कोर्स जरूरी 2

अगले वर्ष से बीएड को बंद कर दिया गया है। अब शिक्षक बनने के लिए आईटीईपी कोर्स करना होगा। इसके लिए आवेदक 12वीं के बाद आवेदन कर सकते हैं।

आवेदन करने की अंतिम तिथि 31 मार्च रखी गई है, जो आवेदक 12वीं के बाद आईटीईपी कोर्स करना चाहते हैं वह इसके लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं

यह कोर्स नई शिक्षा नीति के तहत जारी किया गया है। नेशनल काउंसिल फॉर टीचर एजुकेशन की तरफ से यह बदलाव किया गया है। नेशनल काउंसिल फॉर टीचर एजुकेशन एनसीटीई ने अब शिक्षक बनने के लिए 4 वर्ष इंटीग्रेटेड बीएससी बीएड और बीए बीएड बंद करने का फैसला ले लिया है।

खास बात यह है कि 12वीं के बाद सीधा आईटीईपी में एडमिशन हो सकेगा। इस बीएड की जगह लागू किया जा रहा है। इसका पाठ्यक्रम 4 साल का रहेगा। एनसीटीई का कहना है कि यह बदलाव नहीं शिक्षा नीति के तहत किया जा रहा है।

इससे पहले एजुकेशन के बाद 2 साल की बीएड करते थे लेकिन अब 12वीं के बाद सीधा आईटीपीई कोर्स 4 साल के लिए रहेगा।

इससे व्यक्तियों को 1 साल का फायदा होगा। आईटीपी कोर्स के लिए हर साल प्रवेश परीक्षा होगी, जिसकी मेरिट जारी की जाएगी। इसी आधार पर बनी रैंक के अनुसार अभ्यर्थियों को कॉलेज दिए जाएंगे। इसके लिए 5 फरवरी से आवेदन भरने शुरू हो गए हैं जो 5 मार्च तक भरे जाएंगे।

मान्यता के लिए फिर से करना होगा ऑनलाइन आवेदन

बीएड की जगह शुरू होने वाले इंटीग्रेटेड टीचर एजुकेशन प्रोग्राम के लिए कॉलेजों को फिर से आवेदन करना होगा। एनसीटीई की ओर से राहत देते हुए इसमें यह फायदा दिया गया है कि पहले जिन कॉलेजों ने बेड के लिए मान्यता ले रखी है उन्हीं के आवेदन लिए जाएंगे।

इसके लिए 5 फरवरी से आवेदन भरने शुरू हो गए हैं जो 5 मार्च तक भरे जाएंगे। एनसीटीई ने स्पष्ट किया है कि यदि कोई संस्था जो एनसीटीई से मान्यता प्राप्त नहीं है और नए कोर्स के लिए आवेदन करती है तो उसे खारिज कर दिया जाएगा। वह जो फीस जमा कराएगा उसे भी जप्त कर लिया जाएगा।

कॉलेज के पास होनी चाहिए खुद की जमीन

आईटीपी की मान्यता के लिए कॉलेजों को एनसीटीई को कॉलेज की जमीन का विवरण यूनिवर्सिटी से एफिलिएटिड स्टाफ के सर्टिफिकेट पंजीकरण प्रमाण पत्र ऑनलाइन जमा करवाना होगा।

ऑनलाइन आवेदन से मान्यता के काम को जल्द पूरा करने के लिए देशभर को चार भागों में बांटा गया है, जिसे अलग-अलग प्रभारी बनाए गए हैं।

इसके अलावा मौजूद बीएड मान्यता के दस्तावेज भी अपलोड करने होंगे। एनसीटीई ने मान्यता के लिए 29 से ज्यादा नियम बनाए हैं।

Water Resources Department Recruitment 2024: सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग में निकली नौकरी, ऑनलाइन आवेदन